Monday, March 23, 2009


ढलती शाम है तन्हा,
आँखों में प्यास है,
बिना तुम्हारे हर एक लम्हा,
ज़िन्दगी कितनी उदास है !













6 comments:

SUNIL KUMAR SONU said...

ji maine sabhi shayri padhi.sare ek se badhakar ek.thanks

SUNIL KUMAR SONU said...

http://t0.tagstat.com/image01/d/a6f5/800f052jqrR.jpg
इन आँखों के मस्ती के मस्ताने हजारों hen

aleem azmi said...

bahut hi achchi trah se aapne apne ghazal ko tasveer ke zariye likha jisse sari ghazal hmare dil ko kafi sukoon vo khushi mili....shukriya

wo to khushboo hai hawaon me bhikar jayega,
masla phool ka hai phool kidhar jayega.....
aap hume email kar sakte hai urmi ji,
azmi.aleem@gmail.com
aapke ghazal ka intezar rahega..
take care

अभिन्न said...

शाम की तन्हाई महफ़िल हो जायेगी
शायरी जब जिन्दगी में शामिल हो जायेगी
उदास जिन्दगी खुशगवार हो चलेगी
आपकी शायरी हमारी मंजिल हो जायेगी
..................आपकी कलम को सलाम

007 said...

babli ji bahut hi sundar shayri our chitra to mohit hi kar dete hai,,
padh ke shayri ko man you hi
machalataa hai..
dil ka to kahana hi kyaa..
rah rah ke uchhataa hai,,

M Verma said...

बहुत खूबसूरती से आपने अपनी शायरी को संजोया है.
ज़िन्दगी शुरू होती है रिश्तों से,
रिश्ते शुरू होते हैं प्यार से,
प्यार शुरू होता है अपनों से,
और हम शुरू होते हैं आपसे!
अन्दाज़े बया के क्या कहने ---- बहुत -- बहुत बधाई.