Tuesday, March 31, 2009


लहर आती है, किनारे से पलट जाती है,
याद आती है, दिल में सिमट जाती है,
दोनों में फरक सिर्फ़ इतना है,
लहर बेवक्त आती है और याद हर वक्त आती है!

9 comments:

Navnit Nirav said...

अच्छी पंक्तियाँ हैं .इनका विस्तार जरूर करियेगा.
नवनीत नीरव

रचना गौड़ ’भारती’ said...

ब्लोगिंग जगत में स्वागत है
लगातार लिखते रहने के लि‌ए शुभकामना‌एं
सुन्दर रचना के लि‌ए बधा‌ई
कविता,गज़ल और शेर के लि‌ए मेरे ब्लोग पर स्वागत है ।
http://www.rachanabharti.blogspot.com
कहानी,लघुकथा एंव लेखों के लि‌ए मेरे दूसरे ब्लोग् पर स्वागत है
http://www.swapnil98.blogspot.com
रेखा चित्र एंव आर्ट के लि‌ए देखें
http://chitrasansar.blogspot.com

Amit K Sagar said...

aapkee shayaree ko padhkar AGAM KUMAR NIGAM (father of Sonu Nigam) kaa geet yaad aa gyaa...mere khayal se aisaa na ho! yahee competition hai aaj kii!
--
achchaa likhaa hai aapne. keep it up.
--
mere blog par aakee krapyaa mujhe bhi maargdarshit karen!

Creative Policing-Aravind Pandey said...

sundar...
please visit

paraavaani.blogspot.com

Gurmeet Brar said...

There is scope for extension which is imminent as evident from your efforts.

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

Deepak "बेदिल" said...

आज इस कदर हेरान हुआ हूँ यहाँ आकर
जेसे खुश होते है बुडे मोत पाकर
जब यहाँ आना ही छोड़ दिया था हमने
तुम भी रोए थे कही तनहा जाकर..बेदिल.

Dr. shyam gupta said...

यादों के समुन्दर हें, यादें क्या हैं--

यादें क्या हैं
मन की लाइब्रेरी मैं रखे हुए ,
पुस्तकें, पत्र्कायें,सन्दर्भ ग्रन्थ या सी.डी.,
जिन्हें हम जब चाहें निकाल कर
या माउस क्लिक करके,
देख लेते हैं, ऒर जी लेते हैं,
उन भूले बिसरे छ्णों को ।

Dr. shyam gupta said...

mere blog-the world pf my thoughts par aapkaa swaagat hai.