Monday, August 9, 2010


बरसों से सोचती थी वो पल कभी तो आए,
दिलकश मिलन की छवियाँ आँखों में समा जाए,
हाथ आए जो भी लम्हें वो ऐसी छाप छोड़े,
ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर भूल पाए !

42 comments:

सुधीर said...

bahut khoov

kshama said...

हाथ आए जो भी लम्हें वो ऐसी छाप छोड़े,
ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर न भूल पाए !
Wah Babli wah!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर मुक्तक है!
बधाई!

रश्मि प्रभा... said...

dil ko chhuti rachna

वन्दना said...

sundar bhaav.

nilesh mathur said...

बहुत सुन्दर!

Arvind Mishra said...

वाह -पुरकशिश अहसास

arvind said...

हाथ आए जो भी लम्हें वो ऐसी छाप छोड़े,
ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर न भूल पाए !
..बहुत सुन्दर

Deepak Shukla said...

उर्मी जी...

दिलकश मिलन के सपने...हर दिल ही देखता है...
प्रियतम से मिलने की भी...हर दिल ही सोचता है...
दिल में हैं जो भी रहते...वो दिल के पास होते...
ता उम्र हम भी उनके...ही आस-पास होते....

जिसके लिए भी हर पल...ये दिल अगर तड़पता...
बस उसकी याद में ही...ये दिल सदा धड़कता...
वो पास भले न हो...पर पास सदा रहता...
तन से हो दूर चाहे....वो मन से संग रहता...

सुन्दर अहसास...

दीपक....

sheetal said...

kuch pal aise khas hote hain,
jo palko main hamesha chai hote hain,
yaadgar lamhe ban kar jo hamesha,
dil ki dhadkano main samaye hain.

Bahut sundar

शरद कोकास said...

बहुत खूबसूरत ज़ज़्बात है...

A said...

Very nice Hindi poems. Not just this one but all of them. My first Hindi blog...

Akanksha~आकांक्षा said...

खूबसूरत ज़ज़्बात ...बधाई!

डॉ टी एस दराल said...

अच्छ अभिव्यक्ति है ।

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर, शुभकामनाएं.

रामराम.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

बबली..एतना मीठा अनुरोध है कि हम भी कहने के लिए बाध्य हो गए कि भगवान तुमरा मनोकामना पूरा करें..एही नहीं ..सब मनोकामना!!!

chitra said...

Sundar pankthiyan.........

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

Manoj Bharti said...

सुंदर भाव...खूबसुरत अभिव्यक्ति

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

....हाथ आए जो भी लम्हें वो ऐसी छाप छोड़े,
ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर न भूल पाए...

खूबसूरत क़ता का शानदार शेर.

हमारीवाणी.कॉम said...

क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए के सदस्य बनें.

सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

महफूज़ अली said...

बहुत खूब....और बहुत ही सुंदर लिखा है आपने...

संजय भास्कर said...

बहुत खूबसूरत

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर जी. धन्यवाद

Udan Tashtari said...

बढ़िया.

Suman said...

nice

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत सुन्दर ...

Sonal said...

khoobsurat lines likhi hai aapne..

Banned Area News : Morning walk may curb risk of heart disease

BK Chowla, said...

It is such a pleasure reading your post which is short and so sweet.

shama said...

Bahut khoob Babli!

Dimps said...

Hello Babli ji...

Khoobsurat.. atti-uttam :)
Aap issi tarah likhte raho...

Regards,
Dimple

RAJNISH PARIHAR said...

ऐसे पल तो जीवन में आते ही रहते है....

Sumandebray said...

Bahut khub
love to read your post .. always

माधव said...

सुन्दर

PKSingh said...

bahut khub..

hem pandey said...

हाथ आए जो भी लम्हें वो ऐसी छाप छोड़े,
ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर न भूल पाए !

- कामना है कि ऐसे( अच्छे सन्दर्भों के ) लम्हे सभी को नसीब हों |

योगेन्द्र मौदगिल said...

wahwa.....

lokendra singh rajput said...

बहुत खूबसूरत......... उन लम्हों का इंतजार है हमें।

Rahul Singh said...

यह संवेदना और स्‍पंदन सदैव कायम रहे.

अरुणेश मिश्र said...

लाजवाब ।

श्याम सखा 'श्याम' said...

It is always a treat to visit your blog.it is a nice post

दिगम्बर नासवा said...

ताउम्र उनको हरगिज़ हम फिर न भूल पाए ...
सच है भूलना आसान नही जो दिल में बसे हों ........