Friday, August 13, 2010


दिल पर लगे घाव को अब छुपाये कैसे,
मन में बसी यादों को अब भुलाये कैसे,
काश कोई जादू हो और उम्मीदों के फूल खिले,
और हमारे संग सारा जग मुस्कुराता चले !

48 comments:

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

बबली जी, बहुत सुंदर रचना लिखी है आपने, बधाई।
………….
सपनों का भी मतलब होता है?
साहित्यिक चोरी का निर्ललज्ज कारनामा.....

Sumandebray said...

bahut khub ...
some memories to remember and some to forget ....

मनोज कुमार said...

लवली जी।
बबली जी।

Coral said...

बहुत सुन्दर ...पहली बार आपके ब्लॉग पे आई हू और आपकी फेन हो गयी हू ...बहुत सी नगमे पढकर तो लगा हा यही तो बात मेरे दिल मै है आप ने नज्म बना दी...बहुत सुन्दर

वन्दना said...

sundar rachana.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर मुक्तक है!

BK Chowla, said...

Very nice poem, Babli.

Arvind Mishra said...

sundar bhaavna aur abhivyakti bhee !

डॉ टी एस दराल said...

सही कामना व्यक्त की है । बढ़िया ।

M VERMA said...

दिल पर लगे घाव को अब छुपाये कैसे,
मन में बसी यादों को अब भुलाये कैसे,

दिल के घाव छुपायें नहीं
पर गैरों को दिखायें नहीं

sheetal said...

Bahut khubsurat likha hai aapne.

Sonal said...

ek khoobsurat pyari si rachna..
u hi likhte rahiye..

Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Naani ki sunaai wo kahani..

Banned Area News : USINPAC urges Obama to reconsider enacting H1-B visa fee hike

chitra said...

Kash Koi Jaadu ho....I loved that line.

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत लाजवाब, शुभकामनाएं.

रामराम.

nilesh mathur said...

बहुत सुन्दर भाव !

Manoj Bharti said...

वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

परमजीत सिँह बाली said...

बहुत सुंदर!!

राज भाटिय़ा said...

अति सुंदर जी चंद शव्दो मै बहुत ज्यादा बात.
धन्यवाद

चला बिहारी ब्लॉगर बनने said...

so sweet!! बबली बचिया!!

Udan Tashtari said...

सुन्दर मुक्तक.

संजय भास्कर said...

वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

महफूज़ अली said...

बहुत सुंदर रचना...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूबसूरत ख्वाहिश ...

शिवम् मिश्रा said...

एक बेहद उम्दा पोस्ट के लिए आपको बहुत बहुत बधाइयाँ और शुभकामनाएं !
आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है यहां भी आएं !

Roshni said...

har harf apne aap mein ek gahrai hai ..shyad ye gahrayi apke andar ki hai jo alfajon me rakm ki gai hai
thank's mam

Akhtar Khan Akela said...

bhnji guldste shaayri ke aese hi hote hen jinhen dekh kr ful jhdte hen mhkti he khushbu charo trf roshni hoti he sungndhit jb surj dhlte hen . akhtar khan akela kota rajsthan

Deepak Shukla said...

उर्मी जी...

मित्रों के जो संग रहोगे...
दर्द ह्रदय का मिट जाएगा...
दिल के घाव भरेंगे सारे...
ह्रदय पुष्प भी खिल जाएगा...

सुन्दर भाव....

दीपक....

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर रचना !!

'उदय' said...

... शानदार अभिव्यक्ति !!!

अनामिका की सदायें ...... said...

हमेशा की तरह लाजवाब.

lokendra singh rajput said...

बबली जी आपके साथ तो जग अभी भी मुस्काता है.... आपकी शायरियों के स्पदंन से।

Akanksha~आकांक्षा said...

खूबसूरत और लाजवाब..बधाई.

स्वाधीनता-दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...जय हिंद !!

देवेश प्रताप said...

अति उत्तम रचना ......आपको स्वतंत्रता दिवस कि ढेर सारी शुभकामनाएं .

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

लाजवाब सुंदर रचना
-
-
-
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आपको
हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

काश कोई जादू हो और उम्मीदों के फूल खिले,
और हमारे संग सारा जग मुस्कुराता चले...

स्वतंत्रता दिवस की इस पावन बेला से सीधी जुड़ती हुई भावना...
शुभकामनाएं.

Saiyed Faiz Hasnain said...

दिल पर लगे घाव को अब छुपाये कैसे,
मन में बसी यादों को अब भुलाये कैसे,
Wakai Nahi Bhool Sakta ......dil Ko chho gai Ye Post Aap Ki ............

राज भाटिय़ा said...

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं!

BK Chowla, said...

Happy independence day to all of you

रचना दीक्षित said...

बबली जी,

सुंदर रचना से रूबरू करने के लिए धन्यबाद. स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाये और ढेरों बधाई.

ताऊ रामपुरिया said...

स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर हार्दिक अभिनन्दन एवं शुभकामनाएँ.

रामराम.

वन्दना said...

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं .
अपनी पोस्ट के प्रति मेरे भावों का समन्वय
कल (16/8/2010) के चर्चा मंच पर देखियेगा
और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा।
http://charchamanch.blogspot.com

दिगम्बर नासवा said...

खूबसूरत शेर ..... बहुत लाजवाब ...

अरुणेश मिश्र said...

अचानक उसी की याद ।
मधुर अनुभवों का प्रसाद ।
बबली जी .
रचना प्रशंसनीय ।

satish kundan said...

आपकी सभी रचनाये मन को छू जाती है.....बबली जी!!

chitra said...

Good creativity.

Qadir said...

I Like Your Style

anu said...

बहुत प्यारा शेर ...

Dinesh pareek said...

बहुत ही सुन्दर और रोचक लगी | आपकी हर पोस्ट
आप मेरे ब्लॉग पे भी आये |
मैं अपने ब्लॉग का लिंक दे रहा हु
http://vangaydinesh.blogspot.com/