Wednesday, April 15, 2009


एक शमा अंधेरे में जलाये रखना,
सुबह
होने को है माहौल बनाये रखना,

कौन
जाने वो किस गली से गुज़रे,

हर
गली को फूलों से सजाये रखना !

8 comments:

Saaz Jabalpuri said...

sachmuch aap bahut achchha likhti hain.aap ke blog par aakar achchha laga.dilse badhaai.

sujata said...

great Urmi, loving the couplets very much!!

अभिन्न said...

सुबह होने को है माहौल बनाये रखना,
kya baat kahi hai urmi ji

रज़िया "राज़" said...

मेरे ब्लोग पर कोमेंट देने के लिये शुक्रिया।

कौन जाने वो किस गली से गुज़रे,
हर गली को फूलों से सजाये रखना !
बडे ही सुंदर अल्फ़ाज़ है आपके...शायद आपकी तरहाँ।

aleem azmi said...

aap ke ghzal to achche hai hi lekin uske saath tasveer ke zariye aapne us ghazal me jaan dal di....

bas aise likhte rahiye
arz hai
tu shaheen hai parwaaz kaam tera
tere aage aasmaan aur bhi hai

anupam mishra said...

ये रात अंधेरी है एक दीप जलाए रखना
मैं आऊंगा मिलने को दरवाजा खुला रखना....ये मेरी तरफ से आपको सप्रेम भेंट, आपने काफी अच्छी साज सज्जा के साथ शायरियों को पेश किया है। तस्वीरें तो जैसे बोल रहीं थी....

Anonymous said...

Yo Fm aur aapki shayari Intzaar main aapki palke bichayan hain, aapke ane ki der hain..

Anonymous said...

viagra prescription uk buy viagra now women taking viagra viagra on line women's viagra viagra pills buy viagra australia viagra and cocaine free viagra samples before buying buy viagra online uk generic viagra india viagra shelf life cheap viagra canada viagra prescription uk