Monday, April 6, 2009


तेरे हर अल्फाज़ में वो कशिश है,
जो मेरे रूह को महका जाता है,
तुझे उम्र भर पाने की ख्वाइश है,
ये मेरा जूनून नहीं बेपनाह मोहब्बत है!

2 comments:

Anonymous said...

wah kash main boy friend bana leti fir ye shayri use bhej deti....

sujata said...

Khwaish mein jo mazaa hain pa lene mein nahin... lovely Urmi..keep going!!