Sunday, May 10, 2009


समझ सका मुझे कोई ये बड़ी अजीब बात है,
ज़िन्दगी तू ही बता दे क्यूँ तू इतनी उदास है?
हवाएं भी रुख बदल चुकी, वो बहार भी जाती रही,
दर्द बेशुमार है, मैं चाहूँ अगर तो किससे कहूँ?
जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की,
वही ख्वाब है वही ज़िन्दगी जिसकी मुझे तलाश है !


31 comments:

RAJNISH PARIHAR said...

जो करीब था वही दूर है,जो दूर है वही ख़ास है...!सही कहा...न जाने क्यूँ ख़ास लोग इतने दूर चले जाते है की केवल यादें ही करीब रहती है और रह रह कर तडपाती है...!शायद यही नियति है इस जीवन की...

sanjay vyas said...

यादों, स्मृतियों और दूरियों को लेकर सुन्दर पंक्तिया बुनी है.

aleem azmi said...

kya baat hai....aapka koi jawab nhi urmi ji....fabulos ghazal

शोभना चौरे said...

जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की,
bhut khub.
shayd vo dur hai isliye vo hmare pas hai .

नीरज गोस्वामी said...

बबली जी आपने आपने दिल की बात को सुन्दर शब्दों में अपनी रचना में ढाला है...बधाई...
हवाएं भी रुक बदल चुकी...रुक नहीं होता रुख होता है इसे ठीक कर लें...
नीरज

नीरज कुमार said...

Thanks for your comments...

All your creations are beautiful to eyes and mind...

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

बबलीजी!
आपने बहुत ही सरल भाषा मे ज़िन्दगी कि सुन्दर व्यख्या कि है-आभार
हे प्रभु यह तेरापन्थ और
मुम्बई टाईगर
कि और से मगल भावना।

चंदन कुमार झा said...

बहुत सुन्दर.

गुलमोहर का फूल

मोहन वशिष्‍ठ said...

wonder full mind blowing Urmi ji congratulations

sujata said...

fantastic Urmi!! Have visited your new blog but cannot comment there as the setting does not allow..

K M Mishra said...

जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की,
bhut khub. आभार बबली जी

अमिताभ श्रीवास्तव said...

abhvyakti jab bhi kavya roop me vyakt ki jati he, usme ek tarah ka bhav reesne lagta he/ gazalo me amooman maatrao aadi ki maathapachchi bahut hoti he,,us drashti se dekhne me aapke dvara vyakt bhavnao ka maza jaataa rahega, lihaza sirf aapke bhavo ki meethaas ko paane shbdo me utar jaaye to aanand milna hi he// bahut sundar tarike se aapne apni baat kahi he,
जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
ye pankti laazvaab he, shayad is poori rachna ki khaas pankti bhi he///

अमिताभ श्रीवास्तव said...

aapke do anya blog par bhi bhraman kar aayaa// khanaa masaala me apni ruchi sirf khaanebhar se he//banane me ruchi nahi he/ hna itna laziz bhojan mil jaaye to kya baat he//read kar muh me paani bhar aayaa,,,kaash swad bhi milta, kher bahut achha laga blog, doosre blog par aapke bhaav bhi pasand aaye/aap bahumukhi pratibha he..yah jaan kar achha laga///ishvar aapko unnati pradaan kare/

manu said...

मालूम नहीं चल पाया ,,,क्या वाटर कलर्स हैं,,,
पर लाजवाब ,,,हमेशा कीतरह,,
खूबसूरत,,

दिगम्बर नासवा said...

जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की,

खूबसूरत बुनी है ये रचना..................
अक्सर जो करीब होता है वो ही दूर और ख़ास होता है.....लाजवाब

sanjiv gautam said...

आपके ब्लाग पर आकर बहुत अच्छा लगा. वाकई गुलदस्ता-ए-शायरी है. एक जिग्यासा है कि ब्लाग पर चित्र क्या आपके द्वारा ही बनाये हुये है.

jamos jhalla said...

sundar|adhbhut|dilkash|


W A A A A A A A A A A H

shanky said...

hey nc shayri n one more thing thnx for following my blog thank you so much. :))

ARUNA said...

bahut khoob Babli.....kaise likh leti ho itni sundar kavitaayen!!

योगेन्द्र मौदगिल said...

वाहवा.. बबली जी, ये भी खूब रही..

डॉ. मनोज मिश्र said...

उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की,
वही ख्वाब है वही ज़िन्दगी जिसकी मुझे तलाश है !..
bahut hee umda lainen .

गर्दूं-गाफिल said...

जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
वही ख्वाब है वही ज़िन्दगी जिसकी मुझे तलाश है !

बबली
अब तुम्हारे लिखने में रंग आने लगा है

ajay kumar jha said...

door rahun ya bhaut door hoon,
mujhe itnaa to vishwaas hai...
tujhe mere wajood kaa, mujhe tere astitva kaa,.
apne bheetar hee ehsaas hai.....

mere adhron pe tere naam kee,
ye jo chhui-anchhui pyaas hai,

dino,salaon,yugon aur janmon se
tujhe meri,mujhe teri talaash hai...

pehle bhee keh chukaa hoon aapkee kalam mein ek sammohan hai...
aur haan main jo bhee aapko padh kar likhtaa hoon ve bhaav shabd aapke hee hain, isliye ijaajat kee jaroorat nahin .,. jo bhee man kare aap behichak karein

अक्षत विचार said...

Beautiful pictures..

अनुपम अग्रवाल said...

एहसास ज़िन्दगी का अभी मेरे पास है

फिर भी किसी ख्वाब की मुझे तलाश है

Dr. shyam gupta said...

दिल के भावों को यूं छिपाये कोई,
चोट खाकर भी गुन गुनाये कोई ।

जब कहते हेंकि हम हें आपके तो,
गमे-दिल हमको भी बताये कोई ।

RAJ SINH said...

naa to door naa hee pas
gar rahe rishton ka ehsas

sundar !

mark rai said...

जो करीब था वही दूर है, जो दूर है वही खास है,
उम्मीदें भी जाती रही अब तो उसके आने की...
chaliye nirashaa me bhi ek aasha ki kitan bachi hai aane ki.....
this is the rule of nature....

miracle said...

bahut hi sundar.rishton ka aapko bahut achche se ehsas hai.kabhi hamare blog par bhi daste de.

muskan said...

bahut hi khubsurat rachana...
isse jyada tariph me kya kahu...

परा वाणी - अरविंद पाण्डेय said...

रोचक और सुन्दर है