Thursday, July 2, 2009


नज़रों में अश्कों को छुपाया नहीं जाता,
दिल के हर जज़्बात को दिखाया नहीं जाता,
ये दिल की बातें है, एक दिल समझता है,

पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता !

46 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

दिलवालों की बाते दिलवाले ही जानें,
बे-दिलवाले पीर पराई क्या पहचानें?

M Verma said...

बहुत खूब. बखूबी जज़्बात व्यक्त किया है.
चित्र लाजवाब
लफ्ज जब खामोश हो जाते है तो बयान होती है दिल की दास्तान

ताऊ रामपुरिया said...

वाह बहुत लाजवाब.

रामराम.

Pradip Biswas said...

When a heart tunes to another heart it is the message in vibrations only. The lines you wrote are forever and eternal.

Saiyed Faiz Hasnain said...

कौन कहता है मोहबत सज़ा देती है ,अजी कीजिये तो सही वक्त आने पर मज़ा देती है ..............

लाजवाब शायरी । लिखती रहिये .......

विवेक सिंह said...

आपका हर एक पोस्ट मुझे बेहद पसंद है क्यूंकि आपके लिखने का अंदाज़ सबसे अलग है ! लिखती रहिये और हम पड़ने का लुत्फ़ उठाएंगे!

Science Bloggers Association said...

बहुत ही शानदार मुक्‍तक है। बधाई।

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

yuva said...

Dil ko cheej kahne wale
kabhi apne dil men bhee
jhank le.

Badhai

Atmaram Sharma said...

बहुत सुंदर. अच्छा लगा पढ़कर.

ARUNA said...

bahut khoob Babli......humesha mujhe sahi shabdon ki talaash rehti hai,tum lajawaab ho!

Harsh said...

babli ji bahut khoob .....

राज भाटिय़ा said...

हम तो कायल हो गये आप के .

धन्यवाद

चंदन कुमार झा said...

बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्ति

Dhiraj Shah said...

उनकी नजरो ने दिया धोखा
तो नजरो मे अश्क आ गये
दिल ने छुपाना चाहा
पर दिल का दर्द जुबा पर आ गया

sujata said...

True words can never express the depth of true feelings. Beautiful lines once again!!

kavita said...

Beautiful...

aleem azmi said...

kya kahne aapke urmi ji
jawaab nahi aapka .....
God bless u

aleem

VisH said...

yaaar its not goood.....aapne mere sher to pade hi nahi....?? ab chalo unko pado of comment karo....??? title hai...dushmano ki bheed mai....

take care ....aapne to mujhe hi shayer bana diya....

Prem Farrukhabadi said...

ये दिल की बातें है, एक दिल समझता है,
पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता !
kya baat hai.

श्रद्धा जैन said...

bahut sunder hai aapka blog aur usse sunder aap

bahut sunder chitra ke saath aapke shabd man mein utarte chale gaye

JHAROKHA said...

ये दिल की बातें है, एक दिल समझता है,
पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता !
बहुत खूबसूरत चित्र के साथ -----सुन्दर रचना।
पूनम

satish kundan said...

बहुत सही कहा बबली जी आपने....हर भाव को वयक्त करना जरुरी नहीं वो तो सामने वाला खुद से समझ लेता है........आप बहुत अच्छा लिखती हैं!!!!!!!

raj said...

aap kitna kuchh kah deti hai kuch hi shabdo me......

manu said...

बहुत सुंदर तस्वीर है,,
और आज लिखा भी अच्छा है,,
मजा आया,,

नीरज कुमार said...

wah!

ओम आर्य said...

jitana achcha aaplikhate jitana bhi kaha jaaye kam hai.........

neera said...

the words are great emotions! the paintings are interesting and amazing..

cartoonist anurag said...

पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता !

vakai aaki is rachna k liye lafz dhund raha hu......

jaise hi mil jayenge vaise hi
doda chala aaoonga aapke blog par...

filhal itna hi bahut hi shandar rachna hai..........

चंदन कुमार झा said...

बहुत सुन्दर!!!!!!!

Murari Pareek said...

दिल के जख्म दिखाना भी नहीं लोग मुठी मैं नमक लिए घूमते हैं!! बहुत सुन्दर चित्र बनाया है, लाजवाब पंक्तियाँ भी!!

manohar pal said...

vahut hi umda, vakai dil ke jajbat ko dikhaya nahi jata.

दर्पण साह "दर्शन" said...

PAINTING ACCHI LAGI....

KAVITA BHI ACCHI HAI !!

PAR PAINTING SE ACCHI NAHI !!

दिगम्बर नासवा said...

ये दिल की बातें है, एक दिल समझता है,
पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता

बहुत khoob ............ दिल के जज्बातों को kaagaz पर utaar दिया है आपने hoobhoo

MUFLIS said...

km shabdoN meiN gehri baat keh lene ka hunar hai aap ke paas.

tasveer aakarshit karti hai.

aa kar jb
padh lete haiN aapke jazbaat
phir to iss mehfil se
utth kar jaya nahi jata

abhivaadan svikaareiN.

---MUFLIS---

मोहन वशिष्‍ठ said...

बहुत बेहतरीन लिखो खूब लिखो

अमिताभ श्रीवास्तव said...

nazar aour dil, bechare bahut sahate he...ham rachnaye likhne vaale bhi inhe bakhshte nahi../ aakhir yahi to maanas ke aham pahlu he jo shbdo me tabdil hokar man ko chhoote he/
bahut achhi line he.

●๋• सैयद | Syed ●๋• said...

एक बार फिर से बेहतरीन !!

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

"ये दिल की बातें है, एक दिल समझता है,
पैगामें जिगर लफ्जों में बताया नहीं जाता !"
बहुत खूब..इस सुन्दर रचना के लिये बहुत बहुत धन्यवाद...

abhivyakti said...

हमने कहाँ कुछ कहा था उनको पाखी
दिल में छुपे राज को पहचाना कैसे
वो तो बहे अश्क ही बोले थे सबकुछ
वर्ना हमें आजतक आँखों पे शक था

'पाखी'

Dimps said...

Hello,

Beauty!! Awesome words and nice way to express.

Thanks for adding me. Great blogs!!

Regards...

awaz do humko said...

aap ke jazbat par aap ko lakhon salam
achanak aap ke blog par aana hua tha bhut khoob bhut achcha laga lajawab likhti hain aap bahut badhai...

muskan said...

Bahut Sundar...

भूतनाथ said...

kyaa khoob......!!

R.Ramakrishnan said...

Babli ji

Aapne bahut sundar shairi pharmaya.Aapka lajawab nahi hai.Mai aapka "fan" ban gaya !
(how is my hindi?)
dhanyavad

Ram

R.Ramakrishnan said...

Babliji

My sincere apologies for conveying wrong meaning in Hindi ! What I really meant is that your "Shayari's have no parallel".
Thanks for correcting me.

Best Regards

Ram

Anonymous said...

I am sorry, that has interfered... This situation is familiar To me. It is possible to discuss.