Tuesday, July 14, 2009


वो चांदनी रात थी,
तारों की बारात थी,
पर छाया था आलम हर तरफ़ खामोशी का,
डूबी थी मैं ख्यालों में,
तभी आहट सी हुई उसके आने की,
जैसे पूरा किया वादा साथ निभाने की,
पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी!

54 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

ऊर्मि जी!
आपको सुन्दर शेर के लिए बधाई!
कभी-कभी परछाँई, सच का भान करा देती है।
दिलवर के आने का, मन में ज्ञान करा देती है।।

sujata said...

very beautiful! and it happens sometimes that whta we feel we heard surely is just a figment of imagination

mehek said...

bahut sunder,parchai bhi unki hi thi.

Pradip Biswas said...

Tomai Daki
Ei Tara ghera Chandni rate
Eso Mom Jhonai Katha Bali Dujane
Tumi asho, Pakhir nire
Batesher sabdo satpurai Tule
Kintu tumi noi
Chhaya Ase sudhu.

Tomar sundar kabita pore amar anander anubhuti.

Murari Pareek said...

अति सुन्दर बबली जी !! इन्तजार इतनी गहराई से की परछाई में भी उनके कदमो की आहट !!

Murari Pareek said...

বাবলি দি , আপনার লিখা তা দারুন আর কি বলবো আমার কাছে শব্দ নেই !!

Prem Farrukhabadi said...

bahut mast rachna likhi hai aapne. anand aa gaya.

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर !!

Murari Pareek said...

बबली जी मैं सिलिगुरी, दुर्गापुर रह चुका हूँ ! आसाम में १५ साल से था !! आसमिज और बंगाली भाषा की लिपि में बहुत कम फर्क होता है | इसलिए बोल लेता हूँ ! harkirat haqeer जी के साथ असामीज में बात करता हूँ !!

श्यामल सुमन said...

बहुत खूब। अंतिम पंक्तियों का मजा ही कुछ और है।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

Dimps said...

It is good to see how words can add meaning to our thoughts.

Keep writing & I will keep appreciating :-)

Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

surender said...

this is awesome...

ARUNA said...

bahut sundar sher babli!! Tumhara tho yaar jawaab hi nahin!!!

रंजन said...

sundar...

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

खूबसूरत ख्‍यालों का सुंदर अंकन।

-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

ओम आर्य said...

bahut hi sahi kaha aapane khyal bahut hi sundar khayal hai .....in chand panitiyo me pyar ki yade bahut bahut hi sundar

ताऊ रामपुरिया said...

बेहद उम्दा रचना. शुभकामनाएं.

रामराम.

डॉ. मनोज मिश्र said...

उसकी परछाई थी......
बहुत सुंदर.

kumar Dheeraj said...

बबली जी आपने बेहद तरीके से चीजो को परोसा है । जिस ख्याल में आपने ये शैर लिखा है वह लाजबाब है । शानदार तरीके से लिखा है धन्यवाद

BrijmohanShrivastava said...

क्या बात है -वो नहीं उसकी परछाईं थी -चांदनी रात -तारों की बारात -खामोशी अच्छा चयन शब्दों का |आहट पर ध्यान जाना स्वाभाविक | एक फिल्मी गाना भी है +हर आहट पे समझी वो आय गयो री + आहट पर देखना और परछाई दिखाई दे जाना स्वाभाविक और परछाई द्वारा आहट किया जाना अस्वाभाविक | कुल मिला कर रचना अति उत्तम |

RAJNISH PARIHAR said...

bahut hi sundar rachna..babli ji

जितेन्द़ भगत said...

ऐसी आहट दि‍ल के तह में जाने पर ही सुनाई देती है। सुंदर कल्‍पना।

दिगम्बर नासवा said...

पर धत पगली,
तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी

Maasoom likha hai......... kisi ke pyaar mein doobo to pata hi nahi chalta ........ asal aur parchaai ka..... sundar, bahoot sundar

Sheena said...

पर धत पगली,
तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी

khud ko hi samjhaane ki ek aur naakaam koshish.

bahut khoob likha hai..

KK Yadav said...

पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी.
Bahut sundar...padhkar dil khush ho gaya.

सैयद | Syed said...

बहुत खूबसूरत !!

anil said...

बहुत सुन्दर रचना बेहतरीन !

M VERMA said...

पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी.
====
परछाईया भी तो सच्चाई का एक हिस्सा है. परछाई है तो यकीनन सच्चाई भी जरूर उसके पीछे होगी. नज़र घुमा कर तो देखिये.
बेशक लाजवाब रचना.
चित्र की खूबसूरती को क्या कहना वे तो खुद बोलती है.

manu said...

bahut sunder,,,,,
wah,,

surjit said...

Suspenseful ending of the poem:
..'पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी!....'
You have poetic imagination.It is really admirable.
Thanks for visiting my blog and sharing your kind views..
I am following your blog.

नीरज कुमार said...

ati sundar aur ant ki pankti ka to kahna hi kya...
पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी!

Harsh said...

bahut achcha laga............

abdul hai said...

पर धत पगली, तू किस ख्याल में खोयी थी,
ये वो नहीं उसकी परछाई थी!


Ultimate

shilpa said...

Very beautiful i might say these lines to my hubby thanks for posting dear

Mumukshh Ki Rachanain said...

ख्वाब के आनंद का दुखद समापन हकीकत ही कर सकती है, यही नियति है.

सुन्दर प्रस्तुति.

चन्द्र मोहन गुप्त

Unseen Rajasthan said...

This is a lovely one!! Ati sundar hai..Unseen Rajasthan

adwet said...

बहुत ही सुंदर, बहुत अच्छी

veerubhai said...

"khoobsurat babliji ,aap bhi aap ki shaayari bhi ,ek shair aapke liye :andaaz apna aaine main dekhten hain vo ,aur ye bhi dekhten hain ,koi dekhtaa na ho ."shaayad mere geet kisi ne gaaye hain ,isiliye ,bemausam ,badal chaaye hain .achcha likhtin hain Mdji aap ,mubaarak ,sabhi rachnaayen padhi hain maine ,veerubhai .

Sashindoubutsu said...

What a lovely drawing!

Sumandebray said...

Great!
moonstruck .. is it
Chandni can create wonders ...
"Woh jahen mein tha aur uski parchai zamin mein tha....."
What a wonderful thought...
I am glad that I have visited your page.

R.Ramakrishnan said...

Another lovely shayarai

abhivyakti said...

आहटों से चौंक उठते
उनके आने का यकीन
रात की ये चांदनी थी
ख्वाब से ज्यादा हसीं

Dhiraj Shah said...

चाँदनी रात मे तारो की बारात मे हुये शामिल हम, चारो तरफ थी खुशियाँ कि पिया बारात ले कर आये।

jamos jhalla said...

arre parchaayi ke baad hi to uskaa aagman hotaa hai.
jhallevichar.blogspot.com

अभिन्न said...

bahut sundar shabd aur chitr.
badhai

Saiyed Faiz Hasnain said...

wo meri parchai thi ....shayad ..
bahut achhi post

अमिताभ श्रीवास्तव said...

parchhai bhi sukoon de jaati he, jab ham kisi ke khyaalo me khoye rahte he to/
badhiya likha he/

Parul said...

thanx babli..ur way of writing is also superb

'अदा' said...

aapnar kovita ta khoob shundor,
amar badhai aapna ke paathiye dichhi...

MMO said...

thanks for your site

Connect with me now.

you are always welcome to me.

Best regard @

Suman said...

good

Adrian LaRoque said...

Great blog that you have too, congratulations! Wonderful art.

faridah said...

it's very amazing art!

madhulika said...

bahut dino baad tumhari shayriyan aaj dekh rahi hoon asusual bahut khubsoorat!!