Wednesday, August 5, 2009


आरज़ू--दिल ने हमें दीवाना बना दिया,
रोये थे कभी आपने रुला दिया,
हम ने तो हर वक्त याद किया लेकिन,
आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!

55 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

जिन्दगी है तो उलझन-झमेले भी हैं।

वेदनाएँ भी हैं सुख के मेले भी हैं।।

जिन्दगानी बिना कुछ धरा ही नही,

आसमाँ भी नही और धरा भी नही,

जिन्दगी में भरे खेल-खेले भी है।

उर्मी जी आपने बहुत बढ़िया लिखा है।
मेरा सुझाव है कि आप इन शेरों का गुलदस्ता बनाकर गज़ल के रूप में परोसें।
बहुत बधाई।

Nirmla Kapila said...

बबली जी रचना बहुत अच्छी है लेकिन तस्वीर पसंद नहीं आयी शुभकामनायें

Dhiraj Shah said...

सुन्दर रचना...
आप के तस्वीर का क्या कहना जो एक से एक है ।

ACHARYA RAMESH SACHDEVA said...

SHAYARI KO GUL + DATA HI KAHA JAYE TO ACHCHHA H.
VIASE DOSTI :-
KRISHAN SUDAMA
SUGREEV + HANUMAN
SHABAD ACHCHHE H.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

kya baat hai babli ji...
chhaa gaye aap toh...

ताऊ रामपुरिया said...

वाह बहुत खूबसूरत ..शुभकामनाएं.

रामराम.

Mithilesh dubey said...

बेहद खूबसूरत रचना,दिल को छु गयी आपकी ये रचना।

RAJIV MAHESHWARI said...

बहुत ही सुक्ष्म अनुभुतियों को आपने सुंदर तरीके से इस रचना में पिरो दिया है. बहुत शुभकामनाएं.

रंजन said...

वाह वाह..

Pradip Biswas said...

Smriti je keno Pichhu taane
Lamba hhat niye
Paina tobu tomai
Koto din paare keu jeno Bale
Ki he Baari aachho.
My gift to you.

ओम आर्य said...

आपके भाव तो गहरे ही है वो भी प्यार मे पुरी तरह से भीनी हुई होती है जिसमे प्यार की वारिश बेशुमार होती है ....हर पाठक भींग कर जाता है ......बहुत ही सुन्दर .....बधाई

sujata said...

great lines as usual! Liked the gift Pradipda gave you too..those are great lines as well.

सैयद | Syed said...

Great

aleem azmi said...

behtareen urmi ji apka jawaab nahi

Saiyed Faiz Hasnain said...

Ekdam Sahi Baat Kahi Hai Aapne ........

ARUNA said...

bahut khoob Babli aur wo painting bahut romantic hai!!

rahul said...

wah wah :)..keep them rolling

Science Bloggers Association said...

Shikaayat jaayaz hai.
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

Mahesh Sindbandge said...

Beautiful...... Shayad isiliye log shikayath bhi karna bhool chuke hai...

रश्मि प्रभा... said...

waah.......

RAJNISH PARIHAR said...

इसी तरह इंतजार करते करते कई बार ज़माना बीत जाता है....पर हम इंतजार करना नहीं छोड़ते....

Umesh Agarwal said...

lovely shayari..n i too loved your blog..:)

abdul hai said...

Bahut hi umdaa

अजय कुमार झा said...

jinke intjaar mein hamne,
jindagi ka har lamha bita diya,
usne na lagaya gale na sahi ,
uskee dee maut ne to gale laga liya

babli jee..aapko padhna aur us par kuchh likhna meri aadat hai..kabhi kabhi meri absent ho to chhutti kee application manjoor kar liya kijiye..aur likhtee rahiye..ham padh rahe hain.

मोहन वशिष्‍ठ said...

आरज़ू-ए-दिल ने हमें दीवाना बना दिया,
रोये न थे कभी आपने रुला दिया,
हम ने तो हर वक्त याद किया लेकिन,
आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!



very nice keep it up

नीरज कुमार said...

आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!

एक भाव जो बहुतों को रुलाता है...और यादों में ऐसी ही कोई रोमांस से भरपूर चित्र होता है जो रोमांचित करते रहता है...

jamos jhalla said...

Behatreen,khoobsurat aur beautiful.
jhalli-kalam-se
angrezi-vichar.blogspot.com
jhallevichar.blogspot.com

jamos jhalla said...

Behatreen,khoobsurat aur beautiful.hameshaa ki tarah
jhalli-kalam-se
angrezi-vichar.blogspot.com
jhallevichar.blogspot.com

M VERMA said...

मै पहले आपके चित्र के बारे मे कुछ कहना चाहता हूँ
कहो मत कुछ
सुनने दो मुझे
तुम्हारी आँखो ने
मेरी आँखो से जो कुछ कहा है
====
आपकी शायरी उसका तो जवाब नही. बहुत खूबसूरत

Dimps said...

Very nice!
Good work done :)
Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

तीखे भाव को उसी तरह पेश किया है। बहुत अच्छे!

‘नज़र’ said...

अनुभवी अभिव्यक्ति
---
'विज्ञान' पर पढ़िए: शैवाल ही भविष्य का ईंधन है!

चंदन कुमार झा said...

भावनाओं की सुन्दर अभिव्यक्ति.बहुत खूब. आभार.

महेन्द्र मिश्र said...

आरज़ू-ए-दिल ने हमें दीवाना बना दिया,
रोये न थे कभी आपने रुला दिया
बबली जी
बहुत बढ़िया भावपूर्ण अभिव्यक्ति . बहुत सुन्दर अल्फाज . बधाई.

गर्दूं-गाफिल said...

आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!

nice and unique expression

Domonyi Károly said...

Hi,

Your site is one of my favorites seen around blog explosion. Keep up the good work. I enjoy reading your blog. I wish you all the best in all years. I look forward to developing a friendship and networking with you.
Take a look at my websites AriesTrade Network in Europe.

With Regards,
Karoly Domonyi
http://www.twitter.com/aries_hu

Pankaj Mishra said...

बेहद खूबसूरत रचना,दिल को छु गयी आपकी ये रचना।

BK Chowla said...

Very well written and from the heart.But,I could not relate the picture to the post

VisH said...

wahh boss kya baat hai.....apni baat kahna to koee aap se seekhe

Vijay Kumar Sappatti said...

just amazing , kya khoob likha hai mere dost , padhkar jhoom gaya ji , bahut si yaade aa gayi babli ji .. aapne bahut hi badhiya likha hia ...bus badhai hi badhai


regards

vijay
please read my new poem " झील" on www.poemsofvijay.blogspot.com

Prem Farrukhabadi said...

aapki rachna ka prabhav.bahut achchhi lagi dil se badhai!!!!!

आरज़ू-ए-दिल ने हमें दीवाना बना दिया,
दिल से आप ने हमें मस्ताना बना दिया
हमने तो सदा याद किया आपको लेकिन,
आप ने याद करने में ज़माना लगा दिया!

Harsh said...

shayari achchi lagi........

Dimps said...

Hats off!
Very beautiful :)

Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

Pramod Kumar Kush 'tanha' said...

हम ने तो हर वक्त याद किया लेकिन,
आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!

bahut khoob...bahut saadgii..behad sanjeeda khayaal...

दिगम्बर नासवा said...

दिल को छु गयी आपकी ये रचना,,,,,,, saxh kaha unki yaad to har vaqt aati hai...

JHAROKHA said...

हम ने तो हर वक्त याद किया लेकिन,
आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!
वह बबली जी,
आपकी अभिव्यक्ति का जवाब नही ...कम शब्दों में बहुत कुछ कह देती हैं
पूनम

creativekona said...

आरज़ू-ए-दिल ने हमें दीवाना बना दिया,
रोये न थे कभी आपने रुला दिया,
बबली जी,
बहुत बढ़िया...सरल ..और अर्थवान रचना ...
हेमंत कुमार

yuva said...

जब भी होता है ज़माना
यूँ कुछ याद करते हुए
हम कहते हैं उनसे
याद तो तब करें
जब भुलाया हो कभी हमने
दर्द है सीने में यूँ दफ़न
कि गोया यह
बीते पल की बात हो

hempandey said...

'हम ने तो हर वक्त याद किया लेकिन,
आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!'
- वाह !

Sumandebray said...

आप ने याद करते करते ज़माना लगा दिया!....

der se hi sahi ....phirbhi yaad to aaya ....
kabhie to aisa hota hai ke zamana bhi guzar jate hai aur yaad bhi nahi aate unko

"लोकेन्द्र" said...

वाह बेहतरीन भाव....

Harsh said...

shayari achchi lagi...................

vandana said...

waah waah........bahut gahre bhavon se likhti hain aap.

RAJESHWAR VASHISTHA said...

Amazing expressions.....love personified.....

RAJESHWAR VASHISTHA said...

Amazing expressions....beautiful and touching ...impressed.