Wednesday, August 12, 2009


प्यार के उजाले में गम का अँधेरा आता क्यूँ है?
जिसे हम चाहे वही हमें रुलाता क्यूँ है?
अगर वो मेरा नसीब नहीं..
तो खुदा ऐसे लोगों से मिलाता क्यूँ है?

43 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

गल्ती करना और पछताना,
आदत है इन्सानों की।
शम्मा पर जाकर जल जाना,
आदत है परवानों की।

बहुत-बधाई ऊर्मी जी।

M VERMA said...

बहुत खूबसूरत शायरी
मिलाता क्यूँ है?
वाज़िब प्रश्न है
=======
चन्द लाईने चित्र पर
तुम ग़मजदा होना नहीं
धैर्य अपना तो खोना नहीं
वक्त को अपने संग ले चलो
वक्त को तुम ढोना नहीं

ताऊ रामपुरिया said...

शाश्वत प्रश्न है. आज तक शायद किसी को भी जवाब नही मिला. बहुत लाजवाब .

रामराम.

Nirmla Kapila said...

बबली जी आज तो बेहतरीन रचना है कलम खूब चलने लगी है बधाई

Dr. shyam gupta said...

प्रेम परीक्षा ल्र्ता है,
प्रेम परीक्षा देता है;
प्रेमी तो-त्याग,तप,साधना से ही,
अमर-प्रेम जीता है;
सच्चा प्रेमी तो,
विरहा गाते हुए भी,
सारा जीवन जी लेता है।

aleem azmi said...

urmi ji kya baat aapki rachna din badin trakki la rahi hai badhai ho bahut hi khoobsurat aur behtareen andaz me pesh kiya hai aapne...bahut khoob

Jyothi said...

Teek Kaha Babli ji...

Pyar bhi ajeeb cheez hai,
Hasatha bhi hai aur rulatha bhi hai.
Mille ya na mile, woh naseeb hai,
Lekin, pyar tho hum nibhathe hi hai.

yuva said...

अगर नज्म कुछ यूँ हो:

गम के अँधेरे में भी था प्यार का उजाला
नसीब हो न हो पर
खुदा ने दिया प्यार करने वाला
रोएँ क्यूँ उन यादों को,
जिसने बनाया हमें हँसानेवाला

ओम आर्य said...

sahi kaha hai apane ki aise logo se khuda milata kyo hai ........ye sawal har pyar karanewale puchhate hai khuda se jawaab kuchh bhi nahi aata ........siway tadapane ke

sada said...

बहुत सही ।

Pradip Biswas said...

Ami jani hansi ase
ashrur aage
Kokhono Sukhe
Kokhono Dukhe
Tomai Bhalobase
Ashe Sukher Alo
Rodaner Chhaya Niye
Tobu keno Tomai Bhalobasi.
(A part from my poetry, Gifted to you.)
Thank you for sharing nice Shayari.

Sumandebray said...

अगर वो मेरा नसीब नहीं..
तो खुदा लोगों से ऐसे मिलाता क्यूँ है?

bahut khub .... bahut khub ...

चंदन कुमार झा said...

बहुत खूबसूरत रचना......सुन्दर.

Umesh Agarwal said...

bahut badhiya..keep writting :)

BK Chowla said...

Khuda Ki Baaten Khuda Jaane.

sujata said...

This is just wow!! Brilliant work absolutely.

रश्मि प्रभा... said...

bahut hi sahi ehsaas

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया!!

अर्शिया अली said...

SHAANDAAR.
{ Treasurer-S, T }

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

kya baat hai babli ji...
bahut acha sher hai...

mehek said...

fantastic,just superb.khuda ke paas shayad jawab nahi magar,shayari mein aapse behtar koi nahi urmi ji.waah.

पी.सी.गोदियाल said...

अगर वो मेरा नसीब नहीं..
तो खुदा ऐसे लोगों से मिलाता क्यूँ है?

ताकि नसीब बुढापे में आपसे यह सिकवा ना करे,
कि हम इस जिन्दगी,बगैर किसी से मिले ही मरे !

आदित्य आफ़ताब "इश्क़" said...

ये खुदा की ही तो खता हैं बबली जी .............चलिए माफ़ कर देते हैं ऐसे लोगो और लोगो से मिलाने वाले को

विनय ‘नज़र’ said...

heart touching poem

दिगम्बर नासवा said...

VAAH........ KHUDA AISE LOGON SE MILAATA KYON HAI.....LJAWAAB SHER HAI...YE BHI SACH HAI....JISE HUM CHAAHTE HAIN VO AKSAR RULAAYA KARTE HAIN...PAR CHAAHAT FIR BHI KAM NAHI HOTI

abdul hai said...

fantastic

नीरज कुमार said...

अगर वो मेरा नसीब नहीं..
तो खुदा ऐसे लोगों से मिलाता क्यूँ है?

सवाल करना जरुरी है...

Mithilesh dubey said...

वाह क्या बात है, दिल को छु लेने वाली रचना।

M.A.Sharma "सेहर" said...

U write wonderfully good !!
short yet beautifull !!

महेन्द्र मिश्र said...

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

Hobo ........ ........ ........ said...

kyuki rone se dil halka ho jata hai...
:))

Dimps said...

Hello,

The painting and the lines written below them are made for each other!

Very beautiful.

Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

शोभना चौरे said...

babliji
bhut sachhi shikayat hai khuda se mai bhi aapke sath hoo.
achi abhivykti

योगेश स्वप्न said...

sunder panktian.

milne walon ko bichhadna hoga
khilne walon ko ujadna hoga
jo banaya hai khuda ne ya insan ne
nasht hona hai use hoke bigadna hoga.

विनय ‘नज़र’ said...

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ। जय श्री कृष्ण!
---
INDIAN DEITIES

"MIRACLE" said...

सही बात .....प्यार ख़ुशी भी देता है तो रुलाता भी है तभी तो प्यार है .......और बबली जी कैसी है ...आपके यहाँ मोसम कैसा है .....

JHAROKHA said...

Vah bahut sundar bhav...par ap in sheron ko milakar pooree ek gajal kyon naheen likhteen?

jamos jhalla said...

krishan gopal ke janm ki lakh lakh vadhaaiaan .Gopal apno ko rulaataa bhi bahut hai.tarsaataa bhi bahut hai.magar ant maiAPNAATAA bhi bahut hai.
jhalli-kalam-se
angrezi-vichar.blogspot.com

अमिताभ श्रीवास्तव said...

pyaar he to gam he, gam he to kasak he aour kasak he tab lagta he ki vakai pyaar he..
bs sidhi kahaani

Hari Shanker Rarhi said...

बबली जी ,
मुझे आपका चित्रांकन बहुत पसन्द आता है, हर तस्वीर बहुत कुछ कहती हुई सी लगती है. जन्माष्टमी की बधाइयां आपको भी.

Mumukshh Ki Rachanain said...

सुख-दुःख, लाभ-हानि, जीवन-मरण, हार-जीत आदि शब्द हमें यही तो सिखाते हैं की जिसकी चाह करोगे, दूसरा सदा साथ रह कर अपना अहसास कराएगा.

सुन्दर, भावपूर्ण शेरों की प्रस्तुति पर आभार.

vikram7 said...

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

vandana said...

waah .........kya khoobsoorat bhav hain.