Tuesday, August 18, 2009


अब ज़िन्दगी भर हमको ये गम रहेगा,
सोते जागते दिल को ये ख्याल रहेगा,
क्या कभी प्यार हमें किया था तुमने?
चेहरे पर अपने ये सवाल हमेशा रहेगा !

46 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

ये तो प्यार पर प्रश्न चिन्ह लग गया? सवाल खडा होगया है तो आशा करें कि जवाब जरुर आयेगा. शुभकामनाएं.

रामराम.

Hobo ........ ........ ........ said...

sawaal hai to jawaab bhi hoga...

ओम आर्य said...

एक खुब्सूरत एह्सास को आपने बहुत ही करीने से शब्द मे पिरो कर सवाल बना दिया है .........पर आग दोनो ही तरफ होनी चाहिये ...........जबाव अवश्य आ जायेगा........खुब्सूरत रचना.........

विनोद कुमार पांडेय said...

प्यार का सच्चा सवाल,हर एक को यह सवाल रहती है.
सुंदर भाव के लिए धन्यवाद!!!

Mithilesh dubey said...

बबलि जी बहुत खुब। लाजवाब रचना। बधाई

sawan said...

mysteries make life difficult. aisa koi sawal hume sathana nahi chahiye jiska jawab hamko nahi mil saktha. thts how i see it.
poem->nice way to put it!

Suman said...

nice

रंजन said...

क्या बात है..

kavita said...

Babli ...unquestionably brilliant post.

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

sahi baat hai ji...

Pankaj Mishra said...

अब ज़िन्दगी भर हमको ये गम रहेगा,
सोते जागते दिल को ये ख्याल रहेगा,
क्या कभी प्यार हमें किया था तुमने?
चेहरे पर अपने ये सवाल हमेशा रहेगा !


होता तो सबके साथ है लेकिन जवाब कोई कोई ही ढूढता है !!
अच्छी रचाना

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बबली जी!
आपका शेर दिल को छू गया,
यह भी आपको समर्पित है-

रात-दिन हमको ये खयाल रहेंगा,
हर वक्त जहन में ये सवाल रहेगा।
प्यार में फरेब ही फरेब मिला है,
हमको दिल लगाने का मलाल रहेंगा।।

Saiyed Faiz Hasnain said...

jindgi bhar ka ye sawal hai usse.....क्या कभी प्यार हमें किया था तुमने?.........

AlbelaKhatri.com said...

kya kahen ab.. pyaar tumse kitnaa kiya hai...

jitnaa hum kar sakte the,bas utnaa kiya hai

taul kar toh dikha nahin sakte

khol kar bhi suna nahin sakte

pyaar nihaayat zaati ehsas hai

sabke saamne bata nahin sakte

kaisee rahi.....ha ha ha ha

नीरज गोस्वामी said...

बहुत खूब बबली जी...वाह...
नीरज

वाणी गीत said...

मिला क्या कोई जवाब...!!

विनय ‘नज़र’ said...

सवाल कभी ख़ुद ही जवाब होते हैं
---
ना लाओ ज़माने को तेरे-मेरे बीच

Nirmla Kapila said...

मै ताऊ जी से सहमत हूँ हमे जरूर बता दें कि जवाब आ गया शुभकामनायें

M VERMA said...

एहसास को खूबसूरती से पिरोती है.
चित्र आपके उस एहसास को और गहराई से बयान करते है.

vandana said...

bahut badhiya...........jawab jaroor aayega bas bata jaroor dena.

Dimps said...

Great work babli ji...
It is really beautiful :)

Regards,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com

BK Chowla said...

Once again,a very sweet poem.

jamos jhalla said...

vAAKAI DIL KI BAAT BATAA DETAA HAI ASLI NAKLI CHEHRAA
JHALLI-KALAM-SE
ANGREZI-VICHAR.BLOGSPOT.COM
JHALLI GALLAN

shama said...

आपके कमेन्ट के लिए तहे दिलसे शुक्रिया ! कहाँ पहुँच गयीं comment देने ! ये तस्वीरें ,अपनी अपनी कहानी लिए ,
http://shama-baagwaanee.blogspot.com

या फिर
http://baagwanee-thelightbyalonelypath.blogspot.com

यहाँ पे भी हैं ..बल्कि , इन blogs पे इनके साथ जुड़े वाक़यात भी हैं ..जहाँ आप गयीं ,वो तो अधिकतर मेरे art work का ब्लॉग है ..सब blogs में सब से अधिक पुराना और तकरीबन , 50,000 hits वाला ..जिसे tutorials के लिए इस्तेमाल किया जाता है ..!

Your poems are lovely & unique in their simplicity!

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

KNKAYASTHA "नीरज" said...

उर्मी जी,
अच्छी रचना है...और चित्र भी खूब है...

चंदन कुमार झा said...

सुन्दर रचना.

"MIRACLE" said...

आपका जबाब नहीं .....

raj said...

en swalo me zindgee ulajh jatee hai.....

मस्तानों का महक़मा said...

प्यार पर जब भी कुछ लिखती हो आप तो कुछ अलग लगता है मेरा भी मन करता है कि चार शब्द में भी जोड़ू इसमें।

बे-इंतेहा प्यार क्या होता है ये जाना मैंने खुद प्यार करके
इज़हार जब किया उससे, चली गई वो इनकार करके।
देखा भी, ताका भी निकला कई बार गली से इंतज़ार करके
समझ चुका था मैं प्यार क्या है, अपना टाइम बेकार करके।


कैसा लगा बताना जरूर....

अर्शिया अली said...

अति सुन्दर।
( Treasurer-S. T. )

दिगम्बर नासवा said...

प्यार को khoojte हुवे .......... उसको paane की चाह में likkhi सुन्दर nazm है ...........

Sheena said...

bahut khoob

-Sheena

Abhishek Mishra said...

यह वाकई अनुत्तरित रहने वाला सवाल है.

Dhiraj Shah said...

JINDAGI KA YE GAM, PYAR KA NAGAMA HAI JO SAVALO SE BANDHA HI

SACCHAI said...

pyar humne kiya tha ye CHAAND ko pata hai,
dil se pucho dil ki dhadkan ko pata hai,
fir ye sawal kyu ?...
meri her rom rom ko pata hai ,
pyar humne kiya tha

bahut accha laga aaapke is blog per aaker ...dil se aabhar

----- eksacchai {AAWAZ}

http://eksacchai.blogspot.com

Ek Shehr Hai said...

tasvitro me kashish hai.
jo najro ko tashvir se hatne nahi deti. or pangtiyo me jadu hai jo kayi tareh ke taar chhaidh deti hai.

VisH said...

hummmmm kya baat hai ...bahut khooob hamesha ki tarh.....! mere blog par aane or sundar sundar comment ke liya ...shukriya aate rahna....

Jai Ho mangalmay Ho

aleem azmi said...

kya kahe aapke liye koi alfaaz hi nahi mere pass pehle ki trah bahut umda .....

Rajkumar said...

your blog is very interesting.I like to add you in my blog roll
I welcome you to my blog,leave your valuable comments and your link back is welcomed……….

sujata said...

when doubt creeps in things start to take a down turn!! Very well written again.

विपिन बिहारी गोयल said...

बहुत सुंदर



तेज धूप का सफ़र

Sumandebray said...

bahuut khub
Bahut bariya

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

क्या कभी प्यार हमें किया था तुमने?
चेहरे पर अपने ये सवाल हमेशा रहेगा !
सुंदर भाव.. बहुत बहुत बधाई....

Rajkumar said...

your blog is very interesting.I like to add you in my blog roll
I welcome you to my blog,leave your valuable comments and your link back is welcomed……….

Prem Farrukhabadi said...

pyar sab chahte magar karna koi nahin chahta.
jeena sab chahte marna koi nahin chahta.

satish kundan said...

वाह क्या बात है....हर एक रचना लाजबाब है...