Monday, October 26, 2009


सबसे जुदा सबसे अलग हो आप,
खुशकिस्मत है वो जिसके पास हो आप,
मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप !

50 comments:

Hobo ........ ........ ........ said...

woh muskurate hai aur aap sharmate ho

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

वाह....।
आज बहुत बढ़िया वजनदार शेर लिखा है।
बदाई।

kavita said...

Babli...sabse juda sabse alag ho aap...yes,you have a unique style of expression.Congrats !!

Umesh Agarwal said...

ati ati sundar...aapki shayarion ka jawab nahi...aise hi likhte rahiye aur hume prerit karte rahiye :)

Dipak 'Mashal' said...

:)

M VERMA said...

वाकई जब किसी के लिये मुस्करा दे वो लम्हा बेशकीमती होता है.
रेखांकन के क्या कहने

अर्शिया said...

प्रेम का सुंदर प्रस्फुटन।
वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाएं, राष्ट्र को प्रगति पथ पर ले जाएं।

ओम आर्य said...

प्यार मे इतना ही बहुत होता है ना?बधाई!

श्रीकांत पाराशर said...

kam sabdon mein bahut kuchh kahna ho to aise hi kaha ja sakta hai.

महेन्द्र मिश्र said...

सबसे जुदा सबसे अलग हो आप,
खुशकिस्मत है वो जिसके पास हो आप

इसका विपरीत

जब से जुदा - जुदा हो आप
खुशकिस्मत नहीं है पास नहीं है आप.


बबली जी कितने कम शब्दों में आप कमाल का लिखती है . धन्यवाद .

राज भाटिय़ा said...

बहुत खुब , बहुत अच्छा लगा

SACCHAI said...

सबसे जुदा सबसे अलग हो आप,
खुशकिस्मत है वो जिसके पास हो आप,
मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप

" behtarin , sadkejaavaa bahut hi accha ...kismat, yaad,lamha ,muskurahat ...in sabko behtarin tarike se aur bahut hi siddhe sabdo me kaid karke ek lajawab shayari banayi hai aapne wakai me सबसे जुदा सबसे अलग हो आप,"

------ eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

महफूज़ अली said...

wah! bhaut khoob..... achcha laga

Apanatva said...

bahut hee pyare bhav

डॉ टी एस दराल said...

बहुत सुन्दर चित्र रेखांकित किया है.
अच्छे भाव.

दिगम्बर नासवा said...

लाजवाब andaz है kahne का .........

Jandunia said...

आपकी ये चार पंक्तियां प्रभावित करती हैं

RAJ SINH said...

सुन्दर भावनाएं ,चित्रों में सजाये ,
खूब लिखो ' बबली ' जन जन मन भाए .

आमीन !

AlbelaKhatri.com said...

हर बार की तरह इस बार भी

दिलकश !

दिलफ़रेब !

नायाब !

अफ़लातून !

गज़ब !

कमाल !

मज़ेदार !

लामिसाल !
__________अभिनन्दन !

विनोद कुमार पांडेय said...

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति..धन्यवाद!!!

रश्मि प्रभा... said...

kam lafzon me bahut kuch kahna koi aap se sikhe

RAJNISH PARIHAR said...

जी हाँ जो हर समय ख्यालों में रहते है ,उन्हें भुलाएँ भी तो कैसे?

शिवम् मिश्रा said...

बहुत बढ़िया लिखा हमेशा की तरह !
शुभकामनाएं !

Udan Tashtari said...

सही है..

BK Chowla said...

Babli,wah,bahut badia.

mark rai said...

मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप....
...........धन्यवाद.

मस्तानों का महक़मा said...

कितना अच्छा लिखने लगी हो आप आपको दिन-ब-दिन पढ़ते रहने से मन लगा रहता है आप की लाइनों में।
बहुत अच्छे।

mehek said...

मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप !
waah bahut khubsurat baat,sunder

वन्दना said...

वाह्……………………बहुत ही उम्दा ख्याल ।

Murari Pareek said...

अति विशिष्ट !! आपकी ये रचना में मेरे मिष्टी महफ़िल कार्य क्रम में शामिल करूंगा ! जहां में शेरो-शायरी और प्यार मोहब्बत की बातें करता हूँ !!

अजय कुमार said...

मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप !

गहरा प्यार दर्शाती रचना

atulkushwaha said...

Hi Babli im visited ur blog at first time,,,,
Wafa ki raah mein donon ki haar hoti hai,
Badi ajeeb mohabbat ki maar hoti hai.
isliye kuch kog ye sochte hain ki main harna nahin chahta.....Dont worry..Atul kushwaha
+919369490752

atulkushwaha said...

Hi na jane kyon main ye sochta hun Babli......
kaun deta hai yahan umra bhar ka sahara aye dost,
log to janaje mein bhi kandha badalate rehate hain....Atul kushwaha

atulkushwaha said...

Babli ji, Parchai se kadd nahin napte, zindagi ki dhoop roz badalati hai....

atulkushwaha said...

Hello Dear,Jo Jameen se uthe wo sitare bane,ab aap ki baari hai..
Aasman ki raat ab bhi andhiyaari hai....Atul kushwaha
+919369490752

atulkushwaha said...

Hi,shamma bujhkar fir jal sakti hai, kashti har ek tufan se nikal sakti hai,mayush na ho irade na badal takdir kisi bhi wakta badal sakti hai...

atulkushwaha said...

Hi,Bahut majboot hathon mein bhi reh ke chhoot sakta hai,khiulaune ka bharosha kya kabhi bhi toot sakta hai....trust in it...

atulkushwaha said...

Dear aapko bhi kisi se pyaar hua tha ya hua hai mai nahin janta.lekin mujhe huaa tha itna janta hun...jisse hua tha wo ab bahut door hai aur add filmon mein kaam karne lagi no bhi change kar diya bina bataye...baad mein soch shayad aise hi hota hoga pyar aur bemanjila hoti hai pyar ki kahani....ye hai meri jindagi ke pyar ki adhoori kahani....meri jubani...Atul kushwaha
+919369490752

Sumandebray said...

arey wah! kya baat hai....

par mein to sochta hun ke
woh lamhe bhi haseen hai ...
jaab unko yaad karke mushkura lete hain hum

शरद कोकास said...

बस आप ही आप ।

kshama said...

Itne comments ke baad mai kya kahun? Chhotee-see lekin athah gahraayee walee rachana...wah!

पदमजा शर्मा said...

सरिता' पत्रिका की याद दिला दी आपने . चार लाइनों में सुंदर चित्रों के साथ उसमें ऐसी मखमली क्षणिकाएँ छपती हैं .

abdul hai said...

Good Keep it up

SAHITYIKA said...

so sweet.. :)

ARUNA said...

हाई बबली कैसी हो????? बहुत दिन हो गए मुझे ब्लॉग्गिंग किये हुवे ......हमेशा की तरह बहुत अछा लगा तुम्हारे ब्लॉग पे आके!....और हमेशा की तरह इस शायरी का भी जवाब नहीं !

मस्तानों का महक़मा said...

wahhh... wahhhh...
wahhh... wahhhh...

हम सब हमेशा एक-दूसरे का लिखा हुआ सुनने के बाद उसे वाह-वाह से प्रोत्साहन देते है जिससे की अगले लेख के लिए उत्तेजना मिलती है।

satish kundan said...

bahut...khubsurat aur bhavpurn shayri hai babli jee....man prashan ho gaya..maine ek nai post dali hai...samay mile to jarur aayen mere blog par..

aleem azmi said...

behtareen mam ....bilkul pehle ki trah ...maaf kijiyega kafi samay baad blogger jagat me lauta isliye aapke blogs ka darshan nahi kar paya hoping jald hi aapke blogs ka daur karuga
best regards
aleem azmi

Nirmla Kapila said...

वाह बबली जी दिन पर दिन शायरी निखरती जा रही है बहुत सुन्दर बधाई

Rakesh Singh - राकेश सिंह said...

मेरे लिए तो वो लम्हा ही हसीन है,
जब मुझे याद करके मुस्कुरा लेते हो आप !

सुन्दर प्रस्तुति