Thursday, December 3, 2009


किसीकी याद सताए तो क्या करें,
किसीसे मिलने को दिल चाहे तो क्या करें,
कहते हैं सभी, होती है मुलाकात सपनों में,
पर नींद ही आए तो क्या करें !

38 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

वाह... वाह...!
फिर से एक खूबसूरत मुक्तक!
बधाई!

Udan Tashtari said...

बेहतरीन!!

योगेश स्वप्न said...

bahut sunder muktak,

"कोई याद करता है दिल कह रहा है" ye aaj ki rachna padhen mere blog par.

neend na aaye ,priye ka dhyaan kar
usko apna god ishwar maan kar
uski yaadon se laga kar apna man
mast ho so jaao chadar taan kar.

महफूज़ अली said...

वाह... वाह...!
फिर से एक खूबसूरत मुक्तक!

मनोज कुमार said...

संवेदनशील रचना। बधाई।

Arvind Mishra said...

बस वाह और केवल वाह !

सधना वैद said...

बेहद खूबसूरत और दिल को छू लेने वाला मुक्तक है। बधाई !

खुशदीप सहगल said...

चलिए हमें भी किसी की याद सता ही गई...

आखिर हम ही हारे...

जय हिंद...

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत खूबसूरत रचना. शुभकामनाएं.

रामराम.

निर्मला कपिला said...

वाह वाह बबली जी कमाल है। बधाई

शरद कोकास said...

इस कविता के एवज में एक कविता मेरी भी

नींद के लिये ज़रूरी है

नींद के लिये ज़रूरी होता है
दिमाग के समन्दर में उठती
विचार की लहरों का थम जाना
नसों के सितार पर छिड़े
रक्तप्रवाह के सुरों का लयबद्ध हो जाना

ज़रूरी होता है
इच्छाओं के हाँफते घोड़े का दम साध लेना

नींद के लिये
कतई ज़रूरी नहीं होता
नींद की गोलियाँ गुटकना ।

- शरद कोकास

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

जब जब भी याद सताती है
कमबख्त नींद नहीं आती है।

पी.सी.गोदियाल said...

वाह, बेहतर शेर !

kavita said...

One of your best i have come across till now!Kudos to you Babli.

वन्दना said...

ye to radha krishna ke prem ko bayan kar diya..........jaise radha ji kahti thi ki sakhi tumhein unke deedar sapnon mein to ho jate hain magar mujhe to wo bhi nhi hote kyunki neend hi nhi aati.............ati sundar .

Umesh Agarwal said...

bahut bahut badhiya!!

aseesh vashisht said...

सुंदर रचना के लिए हार्दिक बधाई।

दिगम्बर नासवा said...

वाह .... क्या बात कही .... नींद नही आए तो सपनों में भी मुलाकात कैसे करे .... बेहतरीन ........

M VERMA said...

लाजवाब
वाह

डॉ टी एस दराल said...

बबली जी, फ़िर डॉक्टर किस दिन काम आयेंगे।
अच्छी पंक्तियाँ,

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

अच्छा कताअ है..
ये तसव्वुर करके देखो...
जिसकी फुरकत ने बढाया है मेरी मुश्किल को,
उसकी यादों ने ही आसान बना रखा है
शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

अलीम आज़मी said...

bahut sunder jitni tareef ki jaaye kam hai aapki mohtarma
best regard
aleem azmi

MUFLIS said...

waah !!
itne km alfaaz
itnaa saara izhaar
waah !!!

Sumandebray said...

very nice... great
Khuli aNkhon se sapne dekhna kaNha sabko aati hai!1

sidheshwer said...

खामोश देहलवी के इन अशआर को आपने जगजीत सिंह के स्वर में सुना ही होगा-

उम्र जलवों में बसर हो ये ज़रूरीतो नहीं,
हर शबे-ग़म की सहर हो ये ज़रूरी तो नहीं।

नींद तो दर्द के बिस्तर पे भी आ सकती है,
उनकी आगोश में सर हो ये जरूरी तो नहीं।

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर

विनोद कुमार पांडेय said...

प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति..धन्यवाद बढ़िया रचना..

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

ek funny comment likhne ki aagya dein babli ji...

neend nahi aati to neend ki goliyaa le lo... :-p

Shiv Kumar Mishra said...

शायरी के गुल्दश्ते में एक और सुन्दर फूल.

mark rai said...

कहते हैं सभी, होती है मुलाकात सपनों में,
पर नींद ही न आए तो क्या करें...........
बेहद खूबसूरत.............

BK Chowla said...

Beautiful poetry.
Where did you get the picture from?

SACCHAI said...

" bahut hi badhiya ...

किसीकी याद सताए तो क्या करें,
किसीसे मिलने को दिल चाहे तो क्या करें,
कहते हैं सभी,
होती है मुलाकात सपनों में,
पर नींद ही न आए तो क्या करें !

aapko dher saari badhai "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

boletobindas said...

Logo ne itne tarif kar di hai ab kia kahu...bus wah ...

अजय कुमार said...

इसे कहते हैं तड़पते दिल की पुकार

Hitesh said...

Har baar ek naya andaaz ! Behtareen ! You are a thought factory !
Aajkal blogs par kam aa pata hun isliye sunday ko aapke sare post ek saath padha raha hun.
Aur haan Kuch naya post kiya hai blog par ! http://hiteshmathpal.blogspot.com/2009/12/1.html

psingh said...

बहुत अच्छा लिखा
बहुत बहुत आभार

संजय भास्कर said...

बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
ढेर सारी शुभकामनायें.

संजय कुमार
हरियाणा
http://sanjaybhaskar.blogspot.com
Email- sanjay.kumar940@gmail.com

साधक उम्मेदसिंह बैद said...

मुक्तक से बेहतर तो हमको, चित्र लगा है सुन्दर.
ब्लाग आपका दिल खुश करता, बहुत ही सुन्दर.
बहुत ही सुन्दर रचना है यह सारा जीवन.
फ़ूलों से, मुस्कानों से परिपूर्ण यह जीवन.
कह साधक उर्मि से मित्रता हो तो बेहतर.
चित्र लगा है हमको तो मुक्तक से बेहतर.