Sunday, December 5, 2010


इन आँखों में आँसू आए होते,
वो जो मुडमुड़कर यूँ मुस्कुराये होते,
उनके जाने के बाद ये गम होता है...
काश वो ज़िन्दगी में आए होते !

33 comments:

Priya Sreeram said...

good one !

महेन्द्र मिश्र said...

वाह क्या बात है ...बहुत ही भावपूर्ण रचना ...

महेन्द्र मिश्र said...

बहुत ही भावपूर्ण रचना ...

AlbelaKhatri.com said...

aaj kuchh zyada hi dard bhar diya hai lafzon me..

shayri khoob ! bahut khoob ! badhaai !

केवल राम said...

यही तो इश्क की सच्चाई है ...और आपने वयां कर दी ...बहुत खूब ...शुक्रिया

chitra said...

Beautiful!!

sada said...

बहुत ही सुन्‍दर भावमय करती पंक्तियां ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बढिया मुक्तक है!

Mithilesh dubey said...

बहुत ही उम्दा रचना , बधाई ।

sheetal said...

sabse pehle to aapka shukriyada karna chahungi ki aap ne mera maan rakha aur aap aayi.aaj ki is prastuti ke baare main yahi kehna chahungi.
ishq ki galiyon se gujrna aasan nahi hota hain.
bus khamoshi se is safar ko paar karna hota hain.
bahut bhavpurna prastuti.
bahut sundar.
aise hi aap likhti rehe,
aur hume ehsaas ke samandar main duboti rehe.

वन्दना said...

बेहद उम्दा शेर्……………दिल को भिगो गया।

mridula pradhan said...

bahot achche.

mark rai said...

very nice poem...thanks for posting..

lokendra singh rajput said...

सच कहूँ तो वाकई ये गम होता ही कि काश के जिंदगी में आये न होते....

संजय भास्कर said...

वाह क्या बात है

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर.

रामराम

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर.

रामराम

डॉ टी एस दराल said...

बहुत सुन्दर ।

रचना दीक्षित said...

वाह क्या बात है, बहुत खूब.....

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
विचार-प्रायश्चित

वीना said...

बहुत अच्छा शेर...बहुत खूब

arvind said...

उनके जाने के बाद ये गम होता है...
काश वो ज़िन्दगी में आए न होते !
....बहुत ही भावपूर्ण

BK Chowla, said...

Very impressive writing.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

बहुत सुन्दर पंक्तियां.

प्रेम सरोवर said...

आपके उदगार मन को छू लेते हैं. सार्थक पोस्ट। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।

राहुल यादव said...

good going

Kunwar Kusumesh said...

उफ़,ये आलमे-बेवफाई , क्या कहिये.
किसी की जान पे बन आई,क्या कहिये.

Vasants' Poetry World said...

vow....really heart touching lines...!!!

ताऊ रामपुरिया said...

सुंदर रचना.

रामराम.

Apanatva said...

sunder bhav......
aabhar

अरूण साथी said...

लाजबाब

anil gupta said...

really good one..

अमिता कौंडल said...

क्या खूब लिखती हैं आप उर्मी जी
काश जिंदगी में आये न होते
मैं तो आपकी शायरी की फैन हो गई हूँ
सादर,
अमिता कौंडल