Tuesday, May 17, 2011


करोड़ों का घोटाला किया जिसने,
जनता के वोट से पाया जीतने,
करूणानिधि के सुनहरे दिन हुए ख़त्म,
आओ करें हम जयललिता का स्वागतम,
तमिलनाडु में छाया है ख़ुशी का फुहार,
राज्य में हो रहा है "अम्मा" का जयजयकार !

27 comments:

दिगम्बर नासवा said...

अम्मा भी तो दूध की धुली नही हैं ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बढ़िया!
नीरिशक्ति जिन्दाबाद!

अजय कुमार said...

ye public hai , sab jaanatee hai

Kailash C Sharma said...

काश नेता जनता की शक्ति को चुनाव के बाद भी याद रखें.

kavita said...

I never read your writings on politics before ---a pleasant surprise .

मनोज कुमार said...

क्या बात हे!
समसामयिक शायरी।

Khare A said...

एक तरफ कुआँ है एक तरफ है खाई
जनता बेचारी क्या करे,नेता हुआ हरजाई
तू वोट मुझको दे या उसको दे
तेरी तो हर तरफ से शामत है आई

नूतन .. said...

ye sab hain kalyug ke karndhaar

मदन शर्मा said...

आपके सारे पोस्ट देखे बहुत खुबसूरत पोस्ट है आपका !
अफ़सोस है की पहले क्यों नहीं आया!
आप मेरे ब्लॉग पे आयीं इस के लिए बहुत बहुत धन्यवाद्
और आशा करता हु आप मुझे इसी तरह प्रोत्साहित करती रहेंगी!!
सभी कविताएं रोचक एवं बेजोड़ हैं! आपको मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं......

डॉ टी एस दराल said...

चारों ओर अम्माओं का ही बोल बाला है ।

राज भाटिय़ा said...

यह तो दुध की धुली हे, जरा इस के बारे पढ तो ले यह हे कोन , इस का खान दान कैसा हे, ओर इस ने कोन कोन से गुल खिलाये हे

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सभी नेता एक ही थैली के चट्टे बट्टे हैं ...

mridula pradhan said...

......ab bage-gulistan kya hoga?yahi dekhna hai.

सदा said...

वाह ... बहुत अच्‍छा लिखा है आपने ।

Bhushan said...

जय ललिता की जय-जय. तमिलनाडु की जनता का अपना ही रुझान होता है. आजकल वह हर पाँच वर्ष बाद सरकार बदल देती है. आपने राजनीति का कविताकरण कर दिया है :))

todaythoughts said...

बेहतरीन ।

AlbelaKhatri.com said...

.....................

chitra said...

Loved this totally.

Hamarivani said...

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.



अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:

हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

अमित श्रीवास्तव said...

let us hope for the best..

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

बदलाव की लहर हैँ... जय जयललिता की.

sheetal said...

Babli ji is baar aapki shayari kuch hatke hain...isse pehle kabhi aapko is tarah ki shayari likhte nahi dekha..accha laga yeh dekhkar ki aap is tarah ki shayri bhi likh sakti hain.
is baar chunav main agar karunanidhi ki satta hue khatm.
paschim bengal main buddhbed ji bhi satta hue khatm.
jahan jailalita ji ki jaijaikaar hain.wahi mamta ji ki bhi jaijai kaar hain.
ab dekhna yeh hain ki jo janta ne itna bharosa karke inhe chunaav main jeetaya hain.unki ummedo par yeh khare utare.


chahe Lalita ho ya Mamta.
fir ho chahe koi aur neta.
ham apne bharose par bharosa
rakhte hain.
har baar election main vote
dete hain.
par yaaron yeh nasl hi kuch aisi
hain.
jis par yakin karna mushkil hain.
fir bhi ham ummedo ko jagaya rakhte hain.
par afsos har baar munh ki khaya
karte hain.

mahendra verma said...

स्वागतम्, जयललिता जी।

Vivek Jain said...

बढ़िया!
विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

दर्शन कौर धनोए said...

अम्मा रानी बड़ी सयानी
धाट -धाट का पानी पीया है इसने --यह भी तो भष्ट है

aarkay said...

I fully agree with Digambar Naswa ji. Poor voters perhaps had no better choice !

Human said...

bahut hi achi rachna