Sunday, November 6, 2011


नज़रों में तुम्हारे नज़ारे रहेंगे,
पलकों पे यूँही चाँद सितारे रहेंगे,
चाहे बदल जाये ये ज़माना,
पर हम हमेशा तुम्हारे ही रहेंगे !

49 comments:

प्रेम सरोवर said...

एक अच्छी और गहन रचना. की प्रस्तुति के लिए धन्यवाद । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

hum bhee tumhaare rahenge babli jee....!!

अनुपमा त्रिपाठी... said...

वाह बबली जी ....आपकी शायरी लाजवाब रहती है ....कम शब्दों में बहुत कुछ कह दिया .....!!!!!!!!बहुत सुंदर ....

Bhushan said...

ऐसी ही आशाओं और अपेक्षाओं से भरा जीवन, जीवन कहलाता है.

Rajesh Kumari said...

bahut sundar shayeri.

Manish Kr. Khedawat " मनसा " said...

nic one :)
aapki post pe pic badi mast hoti hain :)

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

वाह!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

अच्छा शेर लिखा है आपने!

M VERMA said...

Solid commitment
बहुत अच्छा

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बहुत खूब ..सुन्दर शायरी

नीरज गोस्वामी said...

बहुत सुन्दर रचना...बधाई स्वीकारें

नीरज

Human said...

बहुत अच्छी रचना !

मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।

http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

sushma 'आहुति' said...

bhaut khub....

Kunwar Kusumesh said...

nice commitment in a few lines.

संजय भास्कर said...

हमेशा की तरह शानदार प्रस्तुति।

kshama said...

Bahut sundar rachana! Hameshakee tarah!

रचना दीक्षित said...

और हम भी तुम्हारे ही रहेंगे. बधाई इस सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति के लिये.

SAJAN.AAWARA said...

bahut hi badhiya ...
achchi lagi aapki ye rachna...
mere rachnaon ko hamesh padhti hai aap , bahut bahut dhanywaad
jai hind jai bharat

Bikramjit said...

bahut khoob mam..
and amen to that .. true love does not care if world changes etc ..

Bikram's

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत उम्दा!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! सूचनार्थ!

vidya said...

बहुत खूब.....वाह.

डॉ टी एस दराल said...

खूबसूरत ख्यालात ।

veerubhai said...

नज़रों में तुम्हारे नज़ारे रहेंगे,
पलकों पे यूँही चाँद सितारे रहेंगे,
चाहे बदल जाये ये ज़माना,
पर हम हमेशा तुम्हारे ही रहेंगे !

आँसू में न ढूंढों हमें,
दिल में बस जायेंगे तुम्हारे,
तमन्ना हो अगर मिलने की,
तो बंद आँखों में नज़र आयेंगे !
सुन्दर मनोहर भाव लिए हैं दोनों भाव कणिकाएं .

रजनीश तिवारी said...

बहुत सुंदर पंक्तियाँ !

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

Bahut hi Sunder.....

सुमन'मीत' said...

yahi to pyaar hai...

dheerendra said...

मन की भावनाओ लिखी सुंदर नज्म..
बहुत अच्छी पोस्ट....
नए पोस्ट में स्वागत है ....

सहज साहित्य said...

चाहे बदल जाये ये ज़माना,
पर हम हमेशा तुम्हारे ही रहेंगे !
इन पंक्तियों में अनुराग का गहन रूप व्यक्त किया गया है ।यही है अपनत्व का सही आदर्श !

lokendra singh rajput said...

एक बेहतरीन रचना... सही सन्देश देती हुयी...

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

न ये चान्द होगा, न तारे रहेंगे,
मगर हम हमेशा, तुम्हारे रहेंगे!

Rahul Bhatia said...

बहुत सुंदर रचना!
You write so beautifully!!

डॉ0 मानवी मौर्य said...

अनन्‍य प्रेम की सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति।

दिगम्बर नासवा said...

बहुत खूब ... जमाने चाहे बदले हम नहीं बदलेंगे ...

Rakesh Kumar said...

क्या सच में ? बबली जी.

कहते हैं,

'यह दुनिया अजब सराये फानी देखी
हर चीज यहाँ की आनी जानी देखी
जो जाके न आये वह जवानी देखी
जो आपके न जाये वह बुढ़ापा देखा'

बुदापे के बाद तो राम ही मालिक है.

आपकी भावमय प्रस्तुति बहुत अच्छी लगी.

सदा said...

वाह ...बहुत खूब ।

Minakshi Pant said...

वाह बहुत खूब दोस्त :)
अर्ज किया है .......
नज़रे अगर हैं तो नजारे भी होंगे |
आसमां में चमकते सितारे दिखेंगे |
जमाने के बदल जाने से क्या होगा |
हम अब तुम्हारे हैं तुम्हारे ही रहेंगे |

sheetal said...

Bahut sundar.....

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

बहुत खूब...
सादर...

आशा जोगळेकर said...

क्या बात है बबली जी बहुत खूब .

नीरज गोस्वामी said...

आप की रचना पढ़ कर एक बहुत पुराना गाना याद आ गया..." न ये चाँद होगा न तारे रहेंगे, मगर हम हमेशा तुम्हारे रहेंगे"

नीरज

मनीष कुमार ‘नीलू’ said...

बहुत खूब ... सुन्दर शायरी ...
बबली जी मेर ब्लॉग पे आकर उत्साहित करने के लिये आपका दिल से शुक्रिया !

मनोज बिजनौरी said...

Bhaut hi sundhar rachna.
http://manojbijnori12.blogspot.com

Arnab Majumdar said...

I'm not that good at writing, or understanding Hindi, but when something this good comes along, I have no choice but to stop and applaud it :)

Cheers,
Arnab Majumdar
ScribbleFest.com

'साहिल' said...

waah! khoobsurat bhaav!

R.Ramakrishnan said...

Extremely beautiful and full of love and feelings !

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' said...

नज़रों में तुम्हारे नज़ारे रहेंगे,
पलकों पे यूँही चाँद सितारे रहेंगे,
चाहे बदल जाये ये ज़माना,
पर हम हमेशा तुम्हारे ही रहेंगे !
वाह...वाह...

jr... said...

Bahat khoob...kripaya...blog ko thoda classic theme me badal dein.colour combination main sudhaar ki jarurat hai...

abdul hai said...

very nice

Naveen Mani Tripathi said...

vah bahut sundar ...

abhar